अनुभव के ख़ज़ाने से : “ व्यक्तित्व ”

दोस्तो हर इंसान की उनके आसपास मे , Society मे या समाज मे 1क अलग छबि होती हे , और अपनी उसी 1क छबि की वजह से हर इंसान जाना जाता हे । जैसे कोई समजदार तो कोई गुस्से वाला , कोई संबंधो को बनाने वाला तो कोई जघड़ालू , कोई अच्छा बिज़नस मेन , कोई पढ़ाकू और कोई निकम्मा इत्यादि ....। आपकी भी ऐसी एक छबी होगी है ना ? लेकिन दोस्तो , आम तौर पे समाजमे दो प्रकार की छबी वाले लोग पाये जाते है , एक सकारात्मक छबी और दूसरी नकारात्मक छबि । सवाल ये है की “ आपकी छबि कैसी है ? ” सकारात्मक या नकारात्मक ? दोस्तो मैंने अनुभव किया है की समाज मे हमारी जो छबि है इसका आधार होता है हमारा “ व्यक्तित्व ” । और हमारे व्यक्तित्व को भी , दो हिस्सो मे बांटा जा सकता है , बाहरी और अंदारोनी । अगर समाज मे हम सकारात्मक छबि बनाना चाहते हे तो हमे हमारे बाहरी और अंदारोनी दोनों ही व्यक्तित्व पे ध्यान देना होगा । कुदरतने आपको बाहरी रूप रंग जैसा भी दिया हो , लेकिन बाहरी व्यक्तित्व को और भी निखारने के लिए , आप आज के ज़माने की हर सुविधा का इस्तेमाल कर सकते हो जेसे की अच्छे कपड़े , हैयर स्टाइल , स्प्रे , क्रीम etc ... ऐसा माना जाता है दोस्तो , की किसी भी संबंध की शुरुआत हमारे बाहरी व्यक्तिव से मे ये सब कुछ सिर्फ 10% ही मायने रखता है । लेकिन फिर भी ये इसीलिए ज़रूरी हे क्यूंकी ये कसी भी संबंध की शुरुआत करवाता हे । क्या कोई राह चलते भिखारी जैसे दिखने वाले इंसान से , दोस्ती करना चाहेगा ? बिलकुल नहीं । अर्थात लोग हमारे बाहरी व्यक्तित्व को देखके हमारी ओर दोस्ती का हाथ बढाते है । हमारा बाहरी व्यक्तित्व से किसी भी संबंध की शुरुआत होती है । लेकिन दोस्ती के ईस संबंध को लंबे समय तक टिकाने के लिए तो हमारा अंदरोनी व्यक्तित्व ही काम आता हे । जीवन मे सफलता , सुख , समृद्धि या शांति पाने के लिए भी हमारा अंदरोनी व्यक्तित्व ( यानि Inner Personality ही ) सबसे ज़रूरी हे । हमारी Inner Personality बनती है , हमारी सोच , व्यवहार कुशलता और ज्ञान से । अगर अंदारोनी व्यक्तित्व अच्छा बनाना है तो हमे हमारी सोच को सकारात्मक बनाना होगा , इसके लिए हमे जीवन जीने का ज्ञान जैसे की , लोगो से कैसे बात-चित करनी , हमारा व्यवहार , बॉडी लेंगवेग , लीडरशिप ऐसे कई मुद्दो पर पढ़ाई करनी होगी और फिर इस अदभूत ज्ञान का इस्तेमाल करके सकारात्मक आदते निर्माण करनी होगी क्योंकि , हमारी आदते ही हमारे व्यक्तित्व का निर्माण करती हे । तो सार ये है की Inner Personality का विकास करने के लिए अपनी आदतोंको सकारात्मक बनाओ फिर ये आदते आपको सकारात्मक बना देंगी । एक दिन शांति से बैठ कर उन आदतों का लिस्ट बनाओ जिसे पाल कर आप सकारात्मक व्यक्तित्व का निर्माण कर सकते है , और फिर उसे अपने जीवनमे अपनाने के लिए सज्ज हो जाओ ।.